Display bannar

सुर्खियां

इंडिया में खान-पान व भाषा ही नहीं शारीरिक बनावट में भी है अंतर, पढे क्यो

  • विविधता के कारण राइनोप्लास्टि में अव्वल बना भारत
  • दक्षिण के लोग मोटी नाक और उत्तर-पूरब के लोग छोटी नाक को बनाना चाहते हैं खूबसूरत


आगरा :  कॉस्मेटिक सर्जरी के जरिए नाक को खूबसूरत बनाने के मामले भारत अव्व्ल है। इस बात को अमेरिका, जर्मन, साउथ अफ्रीका सरीखे देशों के कॉस्मेटिक सर्जन भी मानते हैं। भारत विविधता खान-पान और भाषा में ही नहीं बल्कि शारीरिक बनावट में भी झलकती है। यही वजह है कि नाक की खूबसूरती को लेकर हर प्रांत में अलग परिभाषा है। उत्तर-पूरब में जहां चीन के लोगों की तरह छोटी और दबी नाक वाले भारतीय अपनी नाक को खूबसूरत बनाना चाहते हैं वहीं दक्षिण में अपनी मोटी नाक को नुकीला और सुंदर बनानी की चाहत है। 
फतेहाबाद रोड स्थित डबल ट्री हिल्टन में चल रही कास्मेटिक सर्जरी की इंटरनेशनल कांफ्रेंस में साउथ अफ्रीका के डॉ. पीटर स्कॉट मानते हैं कि राइनोप्लास्टी के मामले में भारत सबसे अव्वल है। वजह भारत की विविधता है। जहां कॉस्मेटिक सर्जन को छोटी, मोटी, पलती सभी तरह की नाक को खूबसूरत बनाने का मौका मिलता है। जबकि यूरोप, अफ्रीका जैसे देशों में ऐसा नहीं है। वहां लोगों की अपनी बड़ी नाक को सिर्फ छोटा कराने के की मामले आते हैं। यानि भारत की विविधता यहां के कॉस्मेटिक सर्जन के लिए एक वरदान है, विशेषकर राइनोप्लास्टी के क्षेत्र में काम रहे डॉक्टरों के लिए। 

जरूरी नहीं कि एश्वर्या जैसी नाक आपको भी खूबसूरत बना दे
चैन्नई अपोलो हॉस्पीटल के डॉ. के रामचंद्र कहते हैं कि हर व्यक्ति के चेहरे का रंग और आकार अलग-अलग होते हैं। इसलिए जरूरी नहीं कि जो नाक या आंख किसी दूसरे चेहरे को खूबसूरत बना रही है वैसी नाक और आंख पाकर आप भी खूबसूरत दिखने लगे। एश्वर्या रॉय की नाक यदि माधुरी दिक्षित के हो तो जरूरी नहीं कि वह खूबसूरत दिखें। इसलिए दिखावे पर न जाएं और अपनी अकल लगाएं। आप जो हैं, उससे बेहतर दिख सकते हैं, लेकिन नकल करके नहीं।  

No comments