Display bannar

सुर्खियां

आखिर कलेक्ट्रेट मे DM के साथ क्यो लगानी पड़ी अधिकारियों को भी झाड़ू... जाने

आगरा : प्रधानमंत्री मोदी के स्वछता अभियान को साकार व सफल बनाने के लिए अब आगरा के जिलाधिकारी भी पीछे नहीं रहना चाहते है तो उनके जिले के अधिकारी कैसे पीछे रहते तो उन्होने आज कलेक्ट्रेट परिसर मे स्वछता अभियान के तहत सभी तो सफाई कर स्वछता के लिए जागरूक किया| जिलाधिकारी गौरव दयाल ने कलेक्ट्रेट परिसर में झाडू लगाकर श्रमदान किया और सफाई अभियान के लिए कहा कि सभी अधिकारी, कर्मचारी तथा अधिवक्तागण अपने-अपने परिसर की स्वयं सफाई करेंगे तो निश्चित रूप से कार्य करने के लिए एक अच्छा माहौल बनेगा। उन्होंने सफाई के लिए सभी से अपेक्षा करते हुये कहा कि अपने बैठने के स्थान/परिसर में गन्दगी होगी तो अन्य लोग भी बैठने में संकोच करेंगे इसलिए हम सभी का दायित्व है कि इस कार्य में स्वयं योगदान करें तभी स्वच्छ भारत मिशन का सपना पूर्ण होगा। श्रमदान के दौरान एडीएम प्रशासन राजेश कुमार श्रीवास्तव, एडीएम फाइनेन्स राकेश कुमार मालपाणी, एडीएम सिटी धर्मेन्द्र सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट संदीप कुमार गुप्ता सहित विभिन्न अधिकारी तथा कर्मचारीगण उपस्थित थे।


पोलिथीन बन्द करने को अभियान चलेगा-डीएम
जिलाधिकारी गौरव दयाल ने बताया कि उ0प्र0 सरकार ने पर्यावरण तथा स्थानीय परिवेश पर प्लास्टिक की थैलियों के प्रतिकुल प्रभावों पर विचार करने के उपरान्त यह अनुभव किया गया कि प्लास्टिक की थैलियां लापरवाही से इधर-उधर फेंक दी जाती हैं और इसका पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पडता है। यह भी पाया गया है कि प्लास्टिक की थैलिया गटरों, मल निकास प्रणाली तथा नलों में बाधा भी उत्पन्न करती हैं जिससे गम्भीर पर्यावरणीय तथा जन स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं उत्पन्न होती है| 
        उन्होंने निर्देश दिये कि किसी दुकानदार, विक्रेता, थोक विक्रेता या खुदरा विक्रेता, फेरीवालों या रेहडीवालों  अर्थात जिसमें सभी प्रकार के हाथ से धकेलने वाले ठेले शामिल हैं जो सभी प्रकार की वस्तुओं को बेचने के लिये प्रयुक्त किये जाते है सहित कोई भी व्यक्ति किसी खाद्य पदार्थ या अखाद्य सामान या सामग्री, वास्तु के भण्डारण या वितरण के लिये किसी प्रकार की प्लास्टिक थैलियों का विक्रय या भण्डारण या प्रयोग नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति उ0प्र0 राज्य के भीतर किसी प्रकार की प्लास्टिक की थैलियों जिनमें पोली प्रोपलीन व न बुने हुए फैब्रिक प्रकार की प्लास्टिक की थैलियां शामिल है या विनिर्माण, आयात, भण्डारण, विक्रय या ढुलाई नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति किसी पुस्तक जिसमें पत्रिका और नियंत्रण पत्र और स्वागत-पत्र शामिल है, तो उसको बांधने या ढकने के लिये किसी प्रकार के प्लास्टिक कवर या प्लास्टिक शीट या प्लास्टिक फिल्म या प्लास्टिक ट्यूब का प्रयोग नहीं करेगा। 
        

No comments