Display bannar

सुर्खियां



आगरा : खेरागढ़ तहसील के महादेवा गांव के लेखपाल रमेश चंद चाहर ( 47) की गुरुवार रात करीब सात बजे उनके गांव नगला खेरा के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई। 
वह सदर तहसील में चल रहे लेखपालों के धरने में शामिल होकर नगला खेरा के ही अपने साथी खचेर सिंह ( 46) के साथ बाइक से घर जा रहे थे। दक्षिण बाईपास के अंडर पास के भीतर तीन युवकों ने उन दोनों पर तीन गोलियां चलाई। 

दोनों घायल हो गए। रमेश चाहर को एसएन मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी ले जाया गया। रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गई। खचेर सिंह को खेरिया स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
वारदात की वजह अभी साफ नहीं हो पाई है। हमलावरों की दिल्ली के नंबर की बाइक मौके पर छूट गई है। इसके नंबर की मदद से पुलिस उनका पता लगाने की कोशिश कर रही है। रमेश चंद चाहर ने दिन में लेखपाल साथियों के साथ सदर तहसील में धरना दिया था। 

घर लौटते समय गांव के ही मिस्त्री खचेर सिंह को बाइक पर बिठा लिया था। उधर, बदमाश अंडर पास में घात लगाए बैठे थे। रमेश चाहर और खचेर सिंह से पहले गांव का ही एक युवक वहां से गुजरा था।
उसने अंडर पास में खड़े युवकों से पूछा था कि वे क्यों खड़े हैं, क्या लूट का इरादा है। युवकों ने उससे कहा था कि लूट का नहीं, कुछ और इरादा है। इसके दो मिनट बाद ही जैसे ही रमेश चंद चाहर और खचेर सिंह पहुंचे, वैसे ही युवकों ने उन पर गोलियां चला दीं। 

वारदात का पता चलते ही लेखपालों का गुस्सा भड़क गया। डीएम गौरव दयाल भी एसएन मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्होंने एसपी पश्चिम अखिलेश नारायण से कहा कि घटना का जल्द खुलासा होना चाहिए। अखिलेश नारायण ने बताया कि मौके से मिली बाइक से सहारे सुराग तलाशे जा रहे हैं। उधर, डीएम के आदेश पर लेखपाल के शव का रात में ही पोस्टमार्टम कराया गया।

No comments