Display bannar

सुर्खियां

ब्लॉग और ब्लोगर्स पर हुई चर्चा... जाने क्या


आगरा : ब्लॉगिंग का भविष्य बहुत उज्ज्वल है बशर्ते उसका कंटेंट अच्छा हो ये कहना था विजय नगर स्थित आगरा पब्लिक स्कूल में आयोजित ब्लोगेर्स मीट मे देश के प्रमुख ब्लोगर्स का | इस कार्यक्रम में 15 वर्ष से लेकर 65 वर्ष के ब्लागर्स ने शिरकत की। ताजनगरी व देश के अन्य हिस्सों से ब्लॉगिंग की दुनिया के तमाम सितारों ने इस कार्यक्रम में शिरकत की। कार्यक्रम दो सत्रो मे आयोजित किया गया| जिसके पहले सत्र में शायर अशोक रावत, प्रतीक पांडे, डॉ. रितुराज पाठक व कार्तिकेय शर्मा ने अपने विचार रखे। 

एस्ट्रोलॉजी ऐप एस्ट्रोसेज कुंडली को बनाने वाले प्रतीक पांडे ने बताया कि यह समय हिंदी का स्वर्णिम काल है। जब उन्होंने ब्लॉगिंग शुरू की थी, तब हिंदी में काम करना बहुत मुश्किल था लेकिन आज इतने सारे टूल्स उपलब्ध हैं, जिनसे हिंदी में ब्लॉगिंग के क्षेत्र में आसानी से सफलता पाई जा सकती है। युवा ब्लॉगर कार्तिकेय शर्मा ने कहा कि आज की जनरेशन टेक्नोलॉजी और विज्ञान के क्षेत्र के ब्लॉग ज्यादा पसंद कर रही है। अपने ब्लॉग में जब तक हम अपने जीवन से जुड़ी चीजों का उल्लेख नहीं करते हैं, तब तक लोग उसे पढ़ना पसंद नहीं करते। डॉ. रितु राज पाठक ट्रैवल जींस नाम से ब्लॉक चलाते हैं। उन्होंने बताया कि शौक में शुरू किया गया यह काम लेकिन अब उनके रोजगार का एक अहम हिस्सा है।


दूसरे सत्र में ब्लॉगर शिवांगी पेसवानी, डॉ. रोली तिवारी मिश्रा, राजीव सक्सेना और गायत्री शर्मा ने अपने विचार रखे। शिवांगी पेसवानी ने कहा कि ब्लॉगिंग का भविष्य बहुत उज्ज्वल है। उन्होंने बताया कि आज के दौर में लोग फैशन और लाइफस्टाइल से जुड़े ब्लॉग्स को ज्यादा पसंद करते हैं। उन्होंने कहा कि इंफॉर्मेशन ब्लॉगर और थॉट ब्लॉगर बिल्कुल एक दूसरे से अलग है। गायत्री शर्मा ने कहा कि कम उम्र के बच्चे ब्लॉग बना तो लेते हैं लेकिन उसे मेंटेन नहीं कर पाते हैं। ब्लॉगिंग करने के लिए बहुत ज्यादा सहनशीलता की जरूरत होती है, जब तक आप किसी भी विषय के लिए गंभीरता से काम नहीं करेंगे तब तक आप इसमें सफलता नहीं पा पाएंगे। दोनों सत्रो का संचालन प्रभजोत कौर ने किया।

ये रहे मौजूद 
डॉ. बृजेश चंद्रा, अमित पंडित, मीतेन रघुवंशी, केसी जैन, डॉ एसपी सिंह, ऋचा जैन, प्रतीक खंडेलवाल, राजीव खंडेलवाल, निहारिका श्रीवास्तव, मानस  रघुवंशी, सपना ग्वालानी, रुद्रा रघुवंशी, करण बत्रा आदि |

No comments