Display bannar

सुर्खियां

अरुण जेटली थे भाजपा के संकटमोचन

नवनीत मिश्र, मगहर, संत कबीर नगर


भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज राजनेता पूर्व वित्त मंत्री, रक्षा मंत्री और सूचना और प्रसारण मंत्री कुशल रणनीतिकार, भाजपा के संकट मोचन व चाणक्य माने जाने वाले राज्यसभा सासंद अरुण जेटली का आज 67 साल की उम्र में नई दिल्ली स्थित एम्स में निधन हो गया। अरुण जेटली लगभग डेढ़ साल से लगातार बीमार चल रहे थे। 9 अगस्त को ज्यादा तबीयत खराब होने के कारण उन्हे एम्स में भर्ती कराया गया था। जहां उन्होंने आखिरी सांस ली। जेटली के परिवार में पत्नी संगीता जेटली और दो बच्चे रोहन और सोनाली हैं।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में कैबिनेट का महत्वपूर्ण अंग रहे अरुण जेटली ने इस बार मंत्रिमंडल में शामिल होने से अपनी खराब सेहत का हवाला देते हुए इंकार कर दिया था। इससे पहले अरुण जेटली वाजपेयी सरकार में भी मंत्री रहे थे। अरुण जेटली की पहचान राजनीति के साथ-साथ दिग्गज वकील के रुप में भी होती रही है। 1952 में जन्में अरुण जेटली ने नई दिल्ली सेंट जेवियर्स स्कूल से पढ़ाई की और श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के पश्चात अपने पिता महाराज किशन की तरह वकालत का पेशा चुनने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय से 1977 में लॉ की डिग्री हासिल की।

अध्ययन के साथ उनका झुकाव राजनीति की तरफ हुआ। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़कर छात्र राजनीति शुरू की और 1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के अध्यक्ष बने। आपातकाल (1975-1977) के दौरान उन्हे मीसा के तहत 19 महीना जेल में भी काटना पड़ा। उनके व्यक्तित्व से प्रभावित होकर स्वo श्री जय प्रकाश नारायण ने उन्हें राष्ट्रीय छात्र और युवा संगठन का संयोजक नियुक्त किया था। जेटली आपातकाल के पश्चात वे जनसंघ और फिर भारतीय जनता पार्टी के स्थापना काल से ही जुड़े थे। 1991 में अरुण जेटली भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बनें।1999 के लोकसभा चुनाव के समय वो भाजपा के प्रवक्ता। वाजपेयी सरकार में पहले वो सूचना प्रसारण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और बाद में 2000 में उन्हें कानून, न्याय और कंपनी मामले का कैबिनेट मंत्री बनाया गया।

सन 2004 के लोकसभा चुनावों के बाद भाजपा ने उन्हें महासचिव बना दिया। 2009 में जेटली जी को भाजपा ने राज्यसभा में विपक्ष का नेता बनाया। 2014 के चुनावों में जेटली ने पार्टी के निर्देश पर अमृतसर सीट से लोकसभा चुनाव लड़े और हार गए लेकिन नरेंद्र मोदी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल में वित्त जैसा अहम मंत्रालय सौंपा। एक वकील के रूप में जेटली देश के सबसे महंगे और काबिल वकीलों में गिने जाते रहे। आपातकाल के बाद 1977 में उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट में वकालत की शुरुआत की और 1990 में जेटली जी ने सुप्रीम कोर्ट में वरिष्‍ठ वकील में रूप में अपनी नौकरी शुरू की। वी.पी. सिंह सरकार में उन्‍हें 1989 में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया गया था। आज उनके जाने से पक्ष-विपक्ष सब शोकाकुल है। भगवान उन्हे अपने श्री चरणों में स्थान दें।

No comments