Display bannar

सुर्खियां

पब्जी गेम अच्छा या बुरा... जाने

मनीष कुमार मिश्र, हजारीबाग 


दिल्ली : बहुत कम समय में प्रसिद्ध होने वाला गेम पब्जी ने युवाओं, बच्चों यहाँ तक की बड़े लोगों को आकर्षित किया है और वे इसे दिन-रात खेलते हैं और इसी गेम पब्जी से बहुत सी दुर्घटनाएं हुई है, यहां तक कि युवाओ की जानें भी गई है | इस दुनियां में हर एक चीज़ के दो पहलू होते है एक अच्छा एक बुरा | आख़िर क्या है, इस गेम में जो लोगों को ख़ासकर युवा वर्ग इतना प्रभावित किया है |

क्यों है लोगो की पसंद 
पब्जी मोबाइल एक तरह का वर्चुअल वीडियो गेम है जिसे मोबाइल और कंप्यूटर पर खेला जाता है। पब्जी मोबाइल गेम को इस तरह डिजाइन किया गया है कि इसे खेलने वाला व्यक्ति धीरे-धीरे इसके अन्दर समाहित महसूस करने लगता है, इसके अंदर बनाए गए नियम, इसके अंदर तैयार किए गए ग्राफिक्स, रियल लाइफ के तरह लोगों को आकर्षित करती है । प्रत्येक व्यक्ति के अंदर बचपन से ही एक योध्य, हीरो बनने की इच्छा होती है और इस तरह के बैटलग्राउंड वाले वीडियो गेम्स लोगों की इस तरह की इच्छा को पूरा करते हैं जिसे वो अपनी जिंदगी में पूरा नहीं कर पाते इसलिए लोग इस तरह के गेम्स को खेलना पसंद करते हैं |


इसकी लत है बुरी 
आज यह गेम इतना लोकप्रिय हो गया है कि इसमे लोग घंटों लगे रहते हैं, जो इस गेम का नकारात्मक पक्ष है | वैसे इस गेम को सही तरीके से प्रयोग किया जाय तो यह कुछ समय के लिए मनोरंजन, थोड़े समय के लिए तनाव से मुक्ति, नए दोस्तों से मिलने, एकता की भावना,  का अच्छा माध्यम है लेकिन अगर इस गेम आधिक समय तक लगे रहने से हमारे शारीरिक और मानसिकता को परिवर्तन कर सकता है और इसमे ज्यादा लगे रहने से आंखों पर बुरा असर, समय की बर्बादी, नींद ना आना, डिप्रेशन और तनाव,पाचन तंत्र में गड़बड़ी और मोटापा, हिंसक स्वभाव, पैसों की बर्बादी है | 

No comments