Display bannar

सुर्खियां

राजीव खंडेलवाल हैं अनूठे बिम्बों और प्रतीकों के कवि: PCK प्रेम

आगरा : लेबनान की फाउंडेशन फॉर ग्रेटिस कल्चर द्वारा वर्ष 2018 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित ताज नगरी के ख्याति प्राप्त इंग्लिश लव पोइट राजीव खंडेलवाल की पांचवी काव्य-कृति "ड्वैलिंग विद डिनायल" को पद्मश्री से सम्मानित ययाति मदन जी गांधी ग्रुप ऑफ पब्लिकेशन द्वारा संचालित द पोइट्री सोसाइटी ऑफ इंडिया, गुड़गांव ने प्रकाशित किया है। इस कृति में राजीव जी द्वारा रचित 75 नई कविताएं संकलित हैं। इनमें से 62 कविताएं पहले ही देश-दुनिया की नामचीन अंग्रेजी पत्रिकाओं और जनरल्स में प्रकाशित होकर सबकी सराहना पा चुकी हैं। समकालीन इंडियन इंग्लिश पोएट्री का इतिहास लिखने वाले सुप्रसिद्ध कवि और आलोचक पीसीके प्रेम ने इस पुस्तक की भूमिका लिखते हुए राजीव खंडेलवाल को अनूठे बिम्बों और प्रतीकों का कवि कह कर उनकी कविताओं की सराहना की है।

       कवि राजीव खंडेलवाल ने बताया कि कोविड-19 के संबंध में सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि बिना जरूरी काम के न घर से बाहर जाएं, न घर पर किसी को बुलाएं। इस निर्देश को ध्यान में रखते हुए वे अपनी पुस्तक का लोकार्पण एहतियात बरतते हुए नहीं करा रहे हैं। परन्तु इसके प्रकाशित खंडों को कविता पत्रिकाओं के 20 शिक्षाविदों-आलोचकों और संपादकों से अनुकूल समीक्षा मिली है। इनकी कविताओं का हिंदी अनुवाद भी प्रकाशन की प्रक्रिया में है।




No comments