Display bannar

सुर्खियां

टैली सोल्युशन्स करेगी उत्तर प्रदेश के 1 मिलियन एसएमई का डिजिटलीकरण

एमएसएमई को आधुनिक तकनीकों को अपनाने में सहयोग प्रदान करने की योजनाएं ताकि वे सरल एवं सहज तरीके से कम्प्लायन्ट बने रह सकें 



आगरा। सॉफ्टवेयर प्रोडक्ट्स में जानी-मानी कंपनी टैली सोल्युशन्स जो पिछले तीन दशकों से छोटे एवं मध्यम बिज़नसेज़ को बिज़नेस मैनेजमेन्ट समाधान उपलब्ध करा रही है, ने आज उत्तर प्रदेश में एमएसएमई को सहयोग प्रदान करने की अपनी योजनाओं का ऐलान किया है। जिसके तहत आधुनिक टेक्नोलॉजी के उपयोग द्वारा उनके बिज़नेस को बढ़ाने में मदद की जाएगी। कंपनी ने अगले कुछ सालों में 1 मिलियन से अधिक एमएसएमई के डिजिटलीकरण का लक्ष्य रखा है। 
    उत्तर प्रदेश, खासतौर पर आगरा में बड़ी संख्या में एसएमई मौजूद हैं। प्रदेश में शू मैनुफैक्चरिंग, हैण्डलूम, होटल, कोल्ड स्टोरेज, टैªवल, सोप इंडस्ट्री आदि उद्योग सक्रियता से काम कर रहे हैं। हालांकि इनमें से बहुत कम ऑर्गेनाइज़ेशन ऐसे हैं जिन्होंने अपने बिज़नेस को डिजिटल बनाया है। ज़्यादातर बिज़नेस आधुनिक टेकनोलॉजी को अपनाने से हिचकते हैं और पारम्परिक तरीकों से ही अपना बिज़नेस जारी रखना चाहते हैं। टैली सोल्युशन्स हमेशा से बिज़नेस को आसान बनाने के लिए प्रयासरत रहा है और इस समस्या को हल करने के लिए तत्पर है। कंपनी ने स्थानीय बिज़नसेज़ को डिजिटलीकरण में सहयोग प्रदान करने की योजना बनाई है। इस योजना के तहत कंपनी अगले कुछ महीनों में यूपी के 1.5 लाख कस्टमर्स तक पहुंचेगी।
    आगरा पर टैली के फोकस के बारे में बात करते हुए बालाजी एस, जनरल मैनेजर- नोर्थ ज़ोन- टैली सोल्युशन्स प्राइवेट लिमिटेड ने कहा, ‘‘आगरा हमारे लिए महत्वपूर्ण मार्केट्स में से एक है, हम इस क्षेत्र में उद्योगों को सहायता प्रदान करने के लिए कई कदम उठा रहे हैं। आने वाले समय में भी हम अपने प्रोडक्ट्स को आसान बनाते रहेंगे ताकि बिज़नेस मालिकों, पेशेवरों और चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट्स के जीवन को आसान बनाया जा सके। भविष्य में कार्यस्थल ज़्यादा कनेक्टेड होंगे, इसी को ध्यान में रखते हुए हम ऐसे आधुनिक प्रोडक्ट्स तैयार कर रहे हैं जिनके द्वारा एसएमई को कनेक्टेड बनाए रखा जा सके और एक ही प्लेटफॉर्म के ज़रिए उनकी बैंकिंग, कम्प्लायन्स आदि सभी ज़रूरतों को पूरा किया जा सके।’’
    टैली सोल्युशन्स ने बिज़नेस मालिकों को जीएसटी, ई-इनवॉयस, ई-वे बिल, कम्प्लायन्स और इनसे जुड़ी सही प्रथाओं के बारे में शिक्षित करने, मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए निवेश किया है। यूपी के बिज़नसेज़ को ज़्यादा से ज़्यादा सहयोग प्रदान करने के लिए कंपनी, क्षेत्र में सेगमेन्ट विशिष्ट कार्यक्रमों का आयोजन करेगी, ताकि बिज़नेस मालिकों की सभी ज़रूरतों को पूरा किया जा सके। इससे उद्यमियों को बिज़नेस के रोज़मर्रा के संचालन, ई-इनवॉयस और ई-वे बिल से जुड़े कम्प्लायन्स अपडेट आदि के बारे में जानकारी मिलेगी। वे इस बात को समझ सकेंगे कि किस तरह आधुनिक तकनीक उनके बिज़नेस में ज़्यादा दक्षता ला सकती है। वे लागत की बचत, कस्टमर्स के लिए बेहतर अनुभव और डेटा सुरक्षा जैसे पहलुओं के बारे में भी जानकारी पा सकेंगे। कंपनी एसएमई की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए अपने मार्की प्रोडक्ट टैली प्राइम के बारे में भी नियमित अपडेट्स देती रहती है। 
    ‘‘देश में दो बार कर प्रणाली में हुए बड़े बदलावों तथा एमएसएमई को उनके बिज़नेस के डिजिटलीकरण में सहयोग प्रदान करने के बाद, हम लगातार प्रासंगिक, आसान तकनीकें ला रहे हैं, जो बिज़नसेज़ को कम्प्लायन्ट बने रहने में मदद करती हैं। हमारा मार्की प्रोडक्ट टैली प्राइम, जीएसटी नियमों के लिए पूरी तरह से कम्पलायन्ट है और बिज़नसेज़ को सॉफ्टवेयर के ज़रिए ई-इनवॉयस एवं ई-वे बिल जनरेट करने में मदद करता है।’’ बालाजी एस ने कहा। 
    हाल ही में, कंपनी ने टैली प्राइम के नए वर्ज़न का लॉन्च किया जो डिजिटल इनवॉयस बनाने में सक्षम है और बड़ी आसानी से प्रमाणिकता बनाए रखते हुए डिजिटल सिगनेचर को किसी भी डॉक्यूमेन्ट में इंटीग्रेट कर सकता है, इस साईन किए गए डॉक्युमेन्ट को अन्य पार्टी के साथ शेयर किया जा सकता है। घरेलु टेक्नोलॉजी कंपनी होने के नाते, टैली आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण पर काम करती है। इसकी स्थापना आधुनिक टेक्नोलॉजी एवं मार्गदर्शन के द्वारा पहले, दूसरे एवं तीसरे स्तर के शहरों में एमएसमई को सहयोग प्रदान करने के उद्देश्य से ही की गई थी।